ई-स्‍वामी यानी ई-भगवान : लीगेसी इंडिया नवम्‍बर 2011 अंक में हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के भगवान का रहस्‍य खुल गया है



2 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा, ई-कन्फ्यूजन। स्वामी जी की साइट के स्थान पर हमारी साइट की फोटो लग गयी।

    ई-स्वामी हिन्दी ब्लॉगजगत के पहले छद्म-नामधारी ब्लॉगर थे। हम उन्हें फैंटम की तर्ज पर "चलता-फिरता प्रेत" कहते थे। उनका प्रिय अवतार है साँड।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पत्रिका ने सोचा होगा कि सांड नहीं, ऋषि की ही फोटो लगनी चाहिए। यही तो असली भारत है।

    उत्तर देंहटाएं

ऐसी कोई मंशा नहीं है कि आपकी क्रियाए-प्रतिक्रियाएं न मिलें परंतु न मालूम कैसे शब्‍द पुष्टिकरण word verification सक्रिय रह गया। दोष मेरा है लेकिन अब शब्‍द पुष्टिकरण को निष्क्रिय कर दिया है। टिप्‍पणी में सच और बेबाक कहने के लिए सबका सदैव स्‍वागत है।