मेरे जन्‍मदिन को हंसीदिवस के रूप में मनायें , खूब खिलकर खिलखिलायें

हंसना ही जिंदगी है

हंसाना ही वंदगी है

वही तो कर रहा हूं

हंस कर, हंसा कर

सबके दांत मुंह से

बाहर कर रहा हूं

हंसे हंसाये

खिलें खिलखिलायें

बिना दांतों के भी

हंसी को मुंह में

बंदी न बनायें

वंदना करें हंसी की

पूजा करें हंसी की

रचना करें हंसी की

सरंचना करें हंसी की

हंसी जो खुशी है

खुशी सदा हंसी है


अब तक जिन्‍होंने दी है जन्‍मदिन पर मेरे शुभकामना, नहीं भी दी है पर लाईन में लगे हैं, बहुत सारे तो अपनी नींद में बेसुध सोये हैं, जागकर देंगे, यह निश्‍चय कर के सोये हैं, सबका नंबर आयेगा, पर मैं तो कुछ काम कर लूं, धन्‍यवाद, शक्रिया, खुशामदीद अपना सबको अर्पण कर दूं।

इसे फेसबुक पर पोस्‍ट कर रहा था, पर उसने मना कर दिया।

अमिताभ बच्‍चन का अंगूठा दैनिक हिन्‍दी मिलाप, हैदराबाद में 30 अक्‍टूबर 2010

http://avinashvachaspati.blogspot.com/2010/10/blog-post_7096.html
पढ़ना चाह रहे हैं और पढ़ने में मुश्किल आ रही है तो मैं आपको आपकी आंखों की जांच के लिए सलाह नहीं दूंगा बल्कि यह कह रहा हूं कि इस इमेज के नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके जो इमेज आए उस पर क्लिक कर लें और पढ़-लिख लें।

डंक की ड्रंकन धार : आई नेक्‍स्‍ट स्‍तंभ 'खूब कही' 8 सितम्‍बर 2010 अंक में प्रकाशित


डेंगू के डंक से तीखा, कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स की महंगाई का डंक, पब्लिक को मच्‍छर के डंक के बारे में जानकारी है, वे डेंगू से डरे-सिमटे हैं। जब एम्‍स के डॉक्‍टर-पुत्र इससे बच नहीं पा रहे और दम तोड़ रहे हैं तो हम और आप यानि पाठक, संपादक और लेखक, मच्‍छरों का क्‍या बिगाड़ लेंगे और क्‍या बिगाड़ लेंगे महंगाई का, जिसने सदा की तरह अपनी नंगाई से सबको त्रस्‍त कर रखा है। जिस तरह स्‍वाइन फ्लू, गेम्‍स फ्लू पर हावी होता जा रहा है। महसूस कीजिए कि खेलों के कारण किस-किसको, कहां-कहां पर, कैसे कैसे तीखे-मीठे डंक लग रहे हैं, कौन कहां पर फ्लू का पपलू बन गया है।  डेंगू का डंक मारने के लिए सिर्फ मच्‍छर ऑथराइज हैं, फ्लू फैलाने के लिए जानवर। जबकि खेलों के डंक-फ्लू के लिए, न जाने कितने मच्‍छर-जानवर रूप अदल-बदल कर चारों तरफ मौजूद हैं, पर पब्लिक की क्‍या मजाल की उनसे बचने में सफल हो सके। टैक्‍स और देश के विकास के नाम पर जो डंक रोजाना मारे जा रहे हैं, उन्‍हें पहचानना सरल नहीं है, गेम्‍स फ्लू को सूंघ-पहचान कर भी इससे बचना संभव नहीं रहा।  
कॉमनमैन टैक्‍स से बचने के लिए महंगाई से जोरा-जोरी कर रहा है, सदा से चोरी कर रहा है।  टैक्‍स रूपी डंक को डंका बजाने से कोई नहीं रोक सकता। इस डंक की लंका को भला कौन जलाएगा ? डंक की यह लंका सोने की नहीं है, पर पब्लिक को सोने नहीं दे रही है। जरा नींद आने को होती है और मालूम होता है कि पेट्रोल के रेट फिर से बढ़ने वाले हैं। सब्जियों के रेट चढ़ने वाले हैं और तो ओर महंगाई तक पहुंचने के सारे गेट खोल दिए गए हैं। यहां वेट भी नहीं की जा रही हे कि गेम्‍स शुरू होने तक तो इंतजार किया जाता, महंगाई भर रही है सर्राटा और बैंक खाते फर्राटे से भरते जा रहे हैं। जिनके खाते भर रहे हैं, वे रिरिया रहे हैं, मानो कुछ जानते नहीं हैं।  डंक का राजा-रंक पर बराबर का असर होता है, यह अब मिथक बन चुका है। राजा बचे रहते हैं, मस्‍त रहते हैं और प्रजा त्रस्‍त। डंक गरीब को आहत करता है, अमीर को नहीं। डंक का डंका डंके की चोट पर बज रहा है। अब डंके की चोट पर गेम्‍स कराए जा रहे हैं। बाद में घपलों-घोटालों की जांच कराकर सब टालमटोल कर दिया जाएगा। डंक आज ड्रंकन किए दे रहा है। गेम्‍स का नशा इस कदर छाया हुआ है कि सरकार का प्रत्‍येक कारिंदा और खुद सरकार झूमती नजर आ रही है। जंक फूड आमाशय में जंग लगा रहा है।  युवा यही खा-भोग रहे हैं, कितनी ही तरह के डंक रोज दर्द देकर समाज की भयानक दुर्गति कर रहे हैं। पब्लिक बेबस होकर चौकस बीमारियों की जकड़ में आकर कसमसा भी नहीं पा रही है और सब देखने-भोगने के लिए अभिशप्‍त है।

महत्‍वपूर्ण लिंक्‍स और बातचीत

ब्‍लॉगर परिचय



विकिपीडिया पर परिचय



अभिव्‍यक्ति पर परिचय

सृजन गाथा पर अविनाश वाचस्‍पति

अनुभूति पत्रिका पर परिचय



साहित्‍य कुंज पत्रिका पर परिचय



सितारों की महफ़िल में आज श्री अविनाश वाचस्पति



परिचयनामा : श्री अविनाश वाचस्‍पति

इंटरनेशनल दिल्‍ली हिन्‍दी ब्‍लॉगर मिलन में जो जैसा कहा अविनाश वाचस्‍पति जी ने


हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग को कम करके आंकना बिल्‍कुल ठीक नहीं है : अविनाश वाचस्‍पति


मोबाइल की तरह बढ़ेगी हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग



साहित्‍यशिल्‍पी में रंजीत कपूर से बातचीत



हिन्‍दी फिल्‍म निर्देशक अनवर जमाल से बातचीत

बरसात की बेबाक बयानी

डीएलए दिनांक 17 अगस्‍त 2010 के संपादकीय पेज पर तीर तुक्‍का स्‍तंभ में प्रकाशित 

सोपानस्‍टेप मासिक के जून अंक में नारदवाणी स्‍तंभ में प्रकाशित























दैनिक हरिभूमि में 10 जुलाई 2010 को प्रकाशित व्‍यंग्‍य


सोपानस्‍टेप मासिक के जुलाई अंक में नारदवाणी स्‍तंभ में प्रकाशित

दैनिक हरिभूमि में 23 जुलाई 2010 को प्रकाशित व्‍यंग्‍य





दैनिक हरिभूमि में 27 जुलाई 2010 को प्रकाशित व्‍यंग्‍य






डीएलए दिनांक 21 जुलाई 2010 में प्रकाशित व्‍यंग्‍य

डीएलए दिनांक 27 जुलाई 2010 में प्रकाशित व्‍यंग्‍य