दिलखुशनगरवासी दु:खी हैं ! : दैनिक हिंदी मिलाप स्‍तंभ 'बैठे-ठाले' 4 मार्च 2013 में प्रकाशित



1 टिप्पणी:

  1. ऐसी घटनाएँ दर्दनाक हैं .... इनसे दिल दुखता है, ये दर्द सदा सालता है

    उत्तर देंहटाएं

ऐसी कोई मंशा नहीं है कि आपकी क्रियाए-प्रतिक्रियाएं न मिलें परंतु न मालूम कैसे शब्‍द पुष्टिकरण word verification सक्रिय रह गया। दोष मेरा है लेकिन अब शब्‍द पुष्टिकरण को निष्क्रिय कर दिया है। टिप्‍पणी में सच और बेबाक कहने के लिए सबका सदैव स्‍वागत है।