नव वर्ष पर 'ठीक है' करने की कला : जनसंदेश टाइम्‍स 1 जनवरी तेरह स्‍तंभ 'उलटबांसी' में प्रकाशित




हजारीलाल हज्‍जाम रोजाना की तरह मेरी हजामत बना रहा है। ठीक उसी समय टीवी पर पीएम का पैगाम ‘ठीक है’ प्रसारित हुआ और उससे ठीक पहले संसद में आवाज आई  – ‘इमरजेंसी जैसे हालात’ और संसद गुलजार हो गई।
हजारीलाल कह रहा है ‘एक प्रख्‍यात फिल्‍मी गीत में कितने ही सवालों के जवाब में अभिनेत्री ‘हां हां’ कह फुदक रही है’, तभी बीच में अभिनेता राजेश खन्‍ना पूछते हैं – तुमको मुझसे प्‍यार है’ और अभिनेत्री शर्मिला ‘हां है’ कहकर सार्वजनिक रूप से हामी भर देती है लेकिन फिर कहती है ‘न न न .....’ लेकिन ‘काका’ की खुशी फेस पर झलक दिखला रही है। वैसी ही खुशी आज पीएम और सोनिया जी के चेहरों पर नमूदार है। सबने महसूस किया कि पीएम देश को संबोधित करने के बाद सोनिया से पूछ रहे हैं – ठीक है ?

मैं हजारी से कहता हूं ‘अभिनेत्री प्‍यार में जैसे इतरा रही है वैसे ही हमारे पीएम। न्‍यू मीडिया पर पीएम केठीक है’ बीते बरस की घटना, इस साल तक खिंची आई है।  बहरहाल,  पब्लिक जो खास है या आम – सबने रट लिया है। एक सर्वेक्षण बतला रहा है ठीक है’ का प्रयोग उनके बाद 77 लाख 36 हजार और सौ 53 बारकिया गया और नववर्ष पर तीव्रगति से इजाफा हो रहा है।

हज्‍जाम कह रहा है ‘सब गलत है किंतु उसे भी ठीक है’ का प्रमाण देने से, आशय ठीक नहीं है’ निकल कर आ रहा है।‘ तस्‍दीक करता हूं ‘शब्‍द किस तेजी से अपना अर्थ बदल किस प्रकार हमारी  जिंदगी में रच बस जाते हैं,यह मिसाल  इसका सबसे जीवंत प्रमाण। मेरे बोलने से नाई का उस्‍तरा मेरे गाल पर चुटकी लेता है और खून की बूंद छलछला आती है। ‘ठीक है’ पूरा गाल नहीं कटा, मैं संतोष जाहिर करता हूं।  हजारी यह कहकर मेरे अल्‍पज्ञान को विस्‍तृत करता है ‘इससे पहले विज्ञापन के संसार के जादू भरे वाक्‍य जनमानस में गहरी पैठ बनाते रहे हैं यथा टेढ़ा है पर मेरा है’, ‘ तेरी कमीज मेरी कमीज से सफेद कैसे’, ‘ ठंडा मतलब कोका कोला। नाई ने गालों के साथ ही मेरे मनमानस पर अपनी मजबूत पकड़ बनाई है।
हजारी रहस्‍य खोलता है कि ठीक नहीं है’ उसे पुलिस से कहकर ठीक है’ करवाया जाता है, देश के सीएम अथवा पीएम के लिए यह कतई मुश्किल नहीं है। अचरज होता है जब सरकार को लगे हाथ ‘ठीक है’ का तमगा देकर सम्‍मानित किया जाता है। पुलिस ठीक नहीं है’ फिर भी ठोक कर ठीक करने में माहिर है। देश में गुंडे,बलात्‍कारियों का होना ठीक है’ ठहरा दिया गया है। भ्रष्‍टाचार में लिप्‍त देश और काले धन को ले जाने वाले वेभी ठीक है’ हो गए हैं।
ठीक है’  के गहराते असर पर शोध जारी है कि  ठीक नहीं है ‘ठीक है’ में तब्‍दील हो गया है। साधारण दो शब्‍दों ने भरपूर तंज समेट लिया है। व्‍यंग्‍यकार इसके पीछे पड़ गए हैं।  हजामत पूरी बनने पर चलते-चलते हजारीलाल से पूछ लेता हूं  ठीक है’ और वह आदतन ‘ठीक है’ कहता है। मैं स्‍वयं को सर्वोत्‍तम व्‍यंग्‍यकार मानने के मुगालते में डूबने-उतराने लगा हूं।

3 टिप्‍पणियां:

  1. जी हज्‍जाम हजारी लाल के पास आइए
    उसका धंधा बढ़ाइए और नए विचार ले जाइए

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए,
    मुट्ठी में बंद कुछ रेत-कण,
    ज्यों कहीं फिसल गए।
    कुछ आनंद, उमंग,उल्लास तो
    कुछ आकुल,विकल गए।
    दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए।।
    शुभकामनाये और मंगलमय नववर्ष की दुआ !
    इस उम्मीद और आशा के साथ कि

    ऐसा होवे नए साल में,
    मिले न काला कहीं दाल में,
    जंगलराज ख़त्म हो जाए,
    गद्हे न घूमें शेर खाल में।

    दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
    प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
    बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
    ऐसा होवे नए साल में।

    Wishing you all a very Happy & Prosperous New Year.

    May the year ahead be filled Good Health, Happiness and Peace !!!

    उत्तर देंहटाएं

ऐसी कोई मंशा नहीं है कि आपकी क्रियाए-प्रतिक्रियाएं न मिलें परंतु न मालूम कैसे शब्‍द पुष्टिकरण word verification सक्रिय रह गया। दोष मेरा है लेकिन अब शब्‍द पुष्टिकरण को निष्क्रिय कर दिया है। टिप्‍पणी में सच और बेबाक कहने के लिए सबका सदैव स्‍वागत है।